विनीत उपाध्याय

।। चल निकले हैं वीर महान।।

विनीत उपाध्याय मातृभूमि की रक्षा हेतु शौर्य दिखाने स्वयं राष्ट्र का ऋण निपटाने शत्रु का सीना चीर मिटाने चल निकले हैं वीर महान।। गददारों को मार भगाने विपदा में पीड़ित को बचाने देश का मस्तक गर्व से उठाने सबसे आगे रहे सुजान।। नभ, जल, थल की रक्षा हेतु दुर्गम पथ को सुगम बनाने दुर्दिल के […]

Continue Reading