बच्चों के साथ डीएम सविन बंसल (फाइल फोटो)

डीएम बंसल के काम के प्रति जज्बे और लगन से बदल रही जिले की तस्वीर

जिलाधिकारी आइएएस सविन बंसल धरातल पर काम करने वाले चुनिंदा अफसरों में से एक हैं। एक बार जो कहा या कार्ययोजना बनाई उसे मूर्त रूप देने तक लगातार उसकी मानिटरिंग करना जिलाधिकारी बंसल की आदत में शुमार है। डीएम की इसी सोच और जनसमस्याओं के निस्तारण के प्रति जज्बे का नतीजा है कि आज जिले […]

Continue Reading
विनीत उपाध्याय

।। चल निकले हैं वीर महान।।

विनीत उपाध्याय मातृभूमि की रक्षा हेतु शौर्य दिखाने स्वयं राष्ट्र का ऋण निपटाने शत्रु का सीना चीर मिटाने चल निकले हैं वीर महान।। गददारों को मार भगाने विपदा में पीड़ित को बचाने देश का मस्तक गर्व से उठाने सबसे आगे रहे सुजान।। नभ, जल, थल की रक्षा हेतु दुर्गम पथ को सुगम बनाने दुर्दिल के […]

Continue Reading
ashutosh pant

हरेला पर्व ही है पौध लगाने और पौधरोपण अभियान शुरू करने का सही दिन

इस खबर को अखबार की तरह पढ़ें(1) गर्मी के दिनों (पांच जून ) लगाए पौधों के जीवित रहने की संभावना रहती है बहुत कम आशुतोष पंत हल्द्वानी। पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। इस दिन हमारे देश में भी पौधरोपण करने की होड़ सी लग जाती है। पर्यावरण के प्रति सजग रहना […]

Continue Reading
kumaon jansandesh.com

कहूं या न कहूं, चलो अब कह ही देता हूं, बाकी आप पर छोड़ता हूं….

कहूं या न कहूं, चलो अब कह ही देता हूं, बाकी आप पर छोड़ता हूं…. तेजपाल नेगी हल्द्वानी | दो मिनट हमारे लिए भी निकाल कर अवश्य पढ़ें, प्रणाम मित्रों कई दिनों से अपने आप से विचार कर रहा था यह बात आपके समक्ष रखूं या नहीं। अंततः आज सुबह दस बजे  (14 अप्रैल 2020) […]

Continue Reading
चीड़ के जंगल

हरियाली को लील रहे चीड़ के जंगल, आखिर इन्हें काटने मेें हर्ज कैसा

चीड़ के पेड़ों पर हल्की सी आग कैरोसिन से भी जल्दी सुलगती है चंद्रशेखर जोशी हल्द्वानी। भाषण देना छोड़ो, धन की बर्बादी की जुर्रत नहीं। असली कारण समझो और उसे दूर करो। …उत्तराखंड का आधे से अधिक भूभाग जंगलों से घिरा है। पहले जंगलों में आग की घटनाएं कम होती थीं। ग्रामीण जंगलों पर निर्भर […]

Continue Reading
आरक्षण की तस्वीर

जब प्रधानमंत्री झाडू पकड़ सकते हैं तो पंडित, ठाकुरों के युवा गटर साफ क्यों नहीं कर सकते

आरक्षण पर टकराव ठीक नहीं, ठाकुर, पंडित भी पकड़े झाडू चंदशेखर जोशी हल्द्वानी। यदि आरक्षण की खिलाफत हो तो सबसे पहले वाल्मीकि और दलित जातियों का सदियों से सफाई में जन्मजात आरक्षण खत्म किया जाए। सफाई कार्य में सवर्णों की भर्ती हो। जब देश के प्रधानमंत्री झाडू पकड़ सकते हैं तो पंडित, ठाकुरों के युवा […]

Continue Reading