बैठक के दौरान डीएम व अन्य अधिकारी

उधमसिंहनगर: जिले के उत्पादों का विदेशों में निर्यात बढ़ाने पर मंथन

उत्तराखण्ड ऊधमसिंह नगर कारोबार ताजा खबर

डायरेक्टरेट जनरल आफ फाॅरेन ट्रेड के डिप्टी डायरेक्टर ने दी आवश्यक जानकारी
कुमाऊं जनसन्देश डेस्क
रुद्रपुर। जिला निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक में जिले के उत्पादों का विदेशों में अधिकाधिक निर्यात करने पर चर्चा की गई, जिससे कि स्थानीय उद्यमियों को अधिक लाभ हो और जिले का विश्व फलक पर विशेष नाम हो सके। इसके लिए विभिन्न विभागों के आपसी समन्वय से रणनीति बनाने पर जोर दिया गया।
मंगलवार को जिलाधिकारी रंजना राजगुरू की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट सभागार में जिला निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में डीजीएफटी के डिप्टी डायरेक्टर भारत सरकार अमित शर्मा ने वीडियो काॅल के माध्यम से समिति जिला निर्यात प्रोत्साहन समिति का गठन व कार्यों के सम्बन्ध में चर्चा की। बैठक में डिप्टी डायरेक्टर अमित शर्मा ने विभागीय योजनाओं से जिलाधिकारी को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि सम्बन्धित विभागों जैसे कृषि, उद्यान, पर्यटन, शिक्षा इत्यादि का सहयोग लेते हुए जनपद स्तर पर उसका क्रियान्वयन किया जाए। उन्हांेने कहा कि कृषि, औद्यानिकी, डेयरी, पशुपालन, रेशम, औद्योगिक, फिशरी एवं फूड प्रोसेसिंग सेक्टर के क्षेत्र में कार्य करते हुए जनपद में उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करते हुए जनपद को डिस्ट्रिक एक्सपोर्ट हब बनाया जा सके। समिति का मुख्य उद्देश्य निर्यातकों को सही जानकारी देना है। इस दौरान जिले में मौजूदा निर्यातकों का समग्र डाटाबेस तैयार करने पर भी चर्चा की गयी।
इस दौरान उद्यमियों द्वारा अपनी समस्या बताई गयी कि आईसीडी पन्तनगर से कन्टेनर का संचालन न होने से अधिकाशं उद्योगों को काशीपुर, मुरादाबाद व दिल्ली आईसीडी द्वारा एक्सपोर्ट के लिए चिन्हित पोर्ट तक पहँुचाया जाता है, जिससे अधिक समय व धन खर्च होता है। चर्चा के दौरान लाॅजिस्टिक एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर सुविधाओं को बढ़ावा देने, बैंकिग व क्रेडिट सम्बन्धित प्रकरणों के निस्तारण के लिए लीड बैंक प्रबन्धक का सहयोग लेने पर भी विचार-विमर्श किया गया।
जिलाधिकारी रंजना राजगुरू ने डीजीएफटी के डिप्टी डायरेक्टर भारत सरकार अमित शर्मा को जानकारी दी कि जनपद में जिला निर्यात प्रोत्साहन समिति द्वारा जनपद को डिस्ट्रिक एक्सपोर्ट हब बनाऐ जाने के लिए लगातार सम्बन्धित विभाग एवं औद्योगिक इकाइयों से समन्वय स्थापित करते हुए कार्य किया जा रहा है। उन्हांेने महाप्रबन्धक चंचल वोहरा को निर्देश दिए कि प्रत्येक माह में एक बार उक्त विषय पर बैठक अवश्य की जाए, ताकि जनपद को डिस्ट्रिक एक्सपोर्ट हब बनाने के लिए कार्य में और तेजी लाई जा सके।
इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी भुवन चन्द्र तिवारी, सहायक निदेशक मत्स्य संजय कुमार गुरुरानी, जिला पर्यटन अधिकरी पीके गौतम, एलडीएम केडी नौटियाल, केजीसीसीआई के अध्यक्ष अशोक बन्सल, निदेशक केएलए इण्डिया अशोक अग्रवाल, निदेशक केएलए फूड्स इण्डिया उत्सव अग्रवाल, अरुण टोंक, आशुतोष शर्मा,आर्किटेक्ट सिडकुल तुषारदीप धीमान आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.