लोगों को जागरूक करते लैब टैक्नीशियन

एक्टिव मोड में बेस के लैब टैक्नीशियन, जांचों के भार के बाद भी फटाफट दे रहे जांच रिपोर्ट

उत्तराखण्ड ताजा खबर नैनीताल

डीएम सविन बंसल के आदेश के बाद दो से तीन दिन में मिलने वाली एलाइजा जांच रिपोर्ट एक ही दिन में करा रहे उपलब्ध
कुमाऊं जनसंदेश की ग्राउंड रिपोर्ट
हल्द्वानी (विनोद पनेरू) । वायरल और डेंगू के प्रकोप के बाद बड़ी संख्या में लोगों के डाक्टरी परामर्श के लिए आने के चलते चिकित्सकों का काम तो काफी बढ़ ही गया है। मगर मरीजों की इस भीड़ का सारा बोझ आखिर में जांच के रूप में लैब टैक्नीशियनों के पास ही जाता है। सीमित लैब टैक्नीशियन, भर्ती मरीजों के अलावा महिला अस्पताल की गर्भवती महिलाओं की जांचों का जिम्मा भी बेस अस्पताल के लैब टैक्नीशियनोें पर ही है। ऊपर से जिलाधिकारी सविन बंसल के आदेश हैं कि सरकारी अवकाशों में भी लैब टैक्नीशियन जांच करेंगे और रोस्टर के अनुसार ड्यूटी करेंगे। मगर बेस के लैब टैक्नीशियन डीएम के आदेश और मरीजों को डेंगू और वायरल की इस भयावह स्थिति में दिक्कत न हो, इसके लिए जांचों के बोझ के बाद भी कर्मठता का परिचय दे रहे हैं। खास बात यह भी है कि डेंगू के बाद कराई जाने वाली एलाइजा जांच रिपोर्ट निजी प्रयोगशालाओं में दो से तीन दिन में ही मिल पाती है। मगर इसे डीएम सविन बंसल की फटकार का असर कहें या लैब टैक्नीशियनों के काम मेें आई तेजी कि अब बेस अस्पताल में एलाइजा जांच की रिपोर्ट उसी दिन उपलब्ध कराने का पूरा प्रयास किया जा रहा है।

 

दो से तीन हजार जांचें प्रतिदिन कर रहे बेस के लैब टैक्नीशियन
हल्द्वानी। डेंगू और वायरल के प्रकोप के बाद स्वास्थ्य विभाग अफसर और चिकित्सक भी मरीजों की बेहतर सुविधा और उचित उपचार के पूरे प्रयास कर रहे हैं। डीएम बंसल खुद स्वास्थ्य सुंविधाओं व व्यवस्थाओं पर निगरानी रखे हुए हैं। बेस के सीएमएस डा. हरीश लाल भी हर रोज वार्डो का निरीक्षण कर स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा ले रहे हैं। बेस अस्पताल सूत्रों के अनुसार डेंगू और वायरल का प्रकोप बढ़ने से पहले तक बेस अस्पताल में करीब सौ से डेढ़ सौ मरीज रोजाना जांच को आते थे और एक हजार से 13 सौ के करीब जांचें होती थी। मगर इन दिनों मरीजों की संख्या चार सौ से पांच सौ के बीच पहुंच जा रही है। वहीं जांचों की संख्या भी दुगुनी से तीन गुनी हो गई है। अब हर रोज दो से तीन हजार जांचें बेस के लैब टैक्नीशियन कर रहे हैं।

आमतौर पर ये जांचें करते हैं लैब टैक्नीशियन
- हीमोग्लोबिन, टीएलसी, डीएलसी, प्लेटलेट काउंट, डेंगू कार्ड टेस्ट, विडाल टेस्ट, एमपी कार्ड टेस्ट सहित किडनी, लीवर, यूरीन, काला पीलिया, टायफाइड, मलेरिया सहित तमाम तरह की जांचें रोजाना की जा रही हैं।

मरीजों को जागरूक भी कर रहा उत्तराखंड मेडिकल लैब टैक्नीशियन एसोसिएशन
हल्द्वानी। डीएम सविन बंसल आम जनमानस को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं दिलाने के लिए शुरू से ही प्रयास कर रहे हैं। इस तरह के निर्देश भी कर्मचारियों को दिए हैं। उत्तराखंड मेडिकल लैब टैक्नीशियन एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सतीश पाठक और प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष कुबेर मावड़ी ने बताया कि एसोसिएशन से जुड़े टैक्नीशियन समय मिलने पर मरीजों को डेंगू और वायरल से बचाव और सुझाव के लिए जागरूक भी कर रहे हैं। इसके लिए वे बेस अस्पताल के वार्डो या आसपास जाकर भी लोगोें को आवश्यक जानकारी दे रहे हैं। इधर बेस अस्पाताल की लैब प्रभारी डा. उषा भट्ट स्वयं भी मरीजों की जांच और बेहतर सुविधाएं दिलाने के लिए जुटी हुई हैं। लैब प्रभारी डा. उषा भट्ट ने बताया कि समय पर आने वाले मरीजों को देर सायं तक ही एलाइजा की जांच रिपोर्ट उपलब्ध करा दी जा रही है। बताया कि मरीजों को हर संभव बेहतर सुविधाएं दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- राहत: अब रविवार और सरकारी छुट्टी के दिन भी बेस और एसटीएच में होंगी जांचेंhttps://kumaonjansandesh.com/relief-now-on-sunday-and-government-holiday-will-be-checked-in-base-and-sth/

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.