dm ds garbyal

आपदा से क्षतिग्रस्त योजनाओं और विकास कार्यो के लिए डीएम ने जारी किया बजट

उत्तराखण्ड ताजा खबर नैनीताल

अधिकारियों को प्रस्तावों के अनुसार धनराशि खर्च करने के दिए निर्देश
नैनीताल। विगत माह जनपद में हुई तीक्ष्ण वर्षा/अतिवृष्टि से हुई क्षतियों के बाद व बचाव कार्यो के दृष्टिगत रखते हुये जिला प्रशासन द्वारा क्षतिग्रस्त मार्गो, पेयजल योजनाओं, नहरों एवं अन्य सार्वजनिक परिसम्पत्तियों की मरम्मत, पुनःस्थापना कार्यो को त्वरित गति कराए जाने हेतु अत्यन्त गम्भीरता से लेते जिलाधिकारी धीराज सिह गर्ब्याल ने दैवीय आपदा के अन्तर्गत सभी विभागों की सार्वजनिक सम्पत्तियों की क्षतियों का आंकलन कर विभागों से प्राप्त प्रस्तावों के अनुसार धनराशि अवमुक्त की है।

न विभागों को जारी हुआ बजट
जिलाधिकारी गब्र्याल ने बताया कि लोक निर्माण विभाग के समस्त खण्डों द्वारा भारी वर्षा से बाधित मार्गो को खोेले जाने हेतु मद मे राज्य आपदा मोचन निधि के अन्तर्गत की गई मांग के अनुसार अग्रिम धनराशि के रूप में प्रांतीय खण्ड लोनिवि नैनीताल को 20 लाख, निर्माण खण्ड लोनिवि नैनीताल को 60 लाख, लोनिवि रामनगर को 20लाख, अस्थाई खण्ड लोनिवि भवाली को 40 लाख, लोनिवि हल्द्वानी को 11 लाख, पीएजीएसवाई लोनिवि ज्योलीकोट को 20 लाख, पीएमजीएसवाई काठगोदाम को 40 लाख, तथा पीएमजीएसवाई लोनिवि हल्द्वानी को 8 लाख कुल 219 लाख की धनराशि अवमुक्त की गई।
उन्होंने बताया कि मरम्मत/पुनसर््थापना कार्यो के लिए लघु सिचाई को 105 योजनाओं/गूलों की मरम्मत के लिए 155.68 लाख, सिंचाई खण्ड, सिंचाई खण्ड नैनीताल को 131 नहरों, कार्यो के सापेक्ष 188.99 लाख, सिचाई खण्ड हल्द्वानी को 13 नहरों के कार्यो के लिए 18.09 लाख, सिंचाई खण्ड रामनगर कोे 19 नहरों के कार्यो के लिए 28.48 लाख, प्रांतीया खण्ड को 02 क्षतियों के लिए 15.05 लाख, पीएमजीएसवाई लोनिवि ज्योलीकोट को 05 क्षतियों के लिए 59.31 लाख, जलसंस्थान नैनीताल को 12 योजनाओं के लिए 27.59 लाख, निमार्ण शाखा पेयजल निगम भीमताल को 107 पेयजल योजनाओ, क्षतियों के लिए 123.35 लाख तथा खण्ड विकास अधिकारी भीमताल एवं प्रभागीय वनाधिकारी तराई पूर्वी वन प्रभाग हल्द्वानी को एक-एक कार्य के लिए 0.75 लाख तथा 12.50 लाख, इसी तरह कुल 16 विभागों के 396 कार्यो के लिए 848.79 लाख की धनराशि स्वीकृति की गई।
जिलाधिकारी धीराज सिह गब्र्याल ने सभी विभागों को निर्देशित किया है कि स्वीकृत किये गये कार्यो को तात्कालिकता के आधार पर करते हुए समस्त क्षतिग्रस्त परिसम्पत्तियों की मरम्मत अतिशीघ्र कराएं। ताकि आम जनमानस को सडक,पेयजल, सिचाई एवं अन्य सेवायें सुचारू रूप से उपलब्ध हो सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.