चाय बनाते अखिलेश कुमार

नेट क्वालीफाइड है हल्द्वानी का ये चाय वाला

उत्तराखण्ड ताजा खबर नैनीताल

हल्द्वानी। मजबूरी में ही सही चाय बेचने को भले ही आजीविका बना रखा हो, मगर पढ़ाई करना नहीं छोड़ा। यही वजह है कि हल्दूचौड़ के बेरीपड़ाव स्थित अष्टादश भुजा श्री महालक्ष्मी मंदिर के बाहर चाय की दुकान चला गुजर बसर करने वाले अखिलेश कुमार ने प्रथम प्रयास में नेट क्वालीफाई कर लिया। अखिलेश अब भर्ती आने पर नौकरी की तलाश में जुट गए हैं। उनका इरादा शिक्षा विभाग की व्यवस्था में सुधार करना है।

चाय बेचते हुए नेट परीक्षा पास करने पर आसपास के लोगों ने उनकी पीठ भी थपथपाई है। रोजी-रोटी के जुगाड़ के लिए संघर्ष के साथ ही सुनहरे भविष्य के सपने सजाते हुए पढ़ाई जारी रखना इतना आसान भी नहीं है। मगर सपने को सच करने की ललक इंसन में जुनून पैदा कर देती है। इसका उदाहरण बने हैं हल्द्वानी के अखिलेश कुमार। जो बेरीपड़ाव स्थित अष्टादश भुजा श्री महालक्ष्मी मंदिर के बाहर चाय बेचते हैं। मगर अब मामूली चाय वाले नहीं रहे। वे अपनी लगन और मेहनत के बल पर नेशनल इलिजिबिलिटी टेस्ट यानी नेट परीक्षा पास कर चुके हैं। इससे निकट भविष्य में भर्ती आने पर कालेज में उनका सहायक प्राध्यापक बनने का रास्ता साफ हो गया है। इससे वे खुद भी बेहद उत्साहित हैं।
हल्द्वानी के मंगलपड़ाव क्षेत्र में रहने वाले अखिलेश वर्ष 2004 में एमबीपीजी कॉलेज से छात्र संघ का चुनाव लड़ कला संकाय प्रतिनिधि भी रह चुके हैं। मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बिजनौर से यहां बसे अखिलेश ने बताया कि वह दो भाई हैं उनके बड़े भाई टैक्सी चलाते हैं और वह चाय बेचकर अपना गुजर बसर करते हैं। अखिलेश ने अपने जीवन का लक्ष्य शिक्षा विभाग व्यवस्था में सुधार करना बताया। इससे पूर्व वह बीएड व यू-टैट प्रथम, द्वितीय भी क्वालीफाई कर चुके हैं। मगर सरकार द्वारा पद न भरे जाने की वजह से चाय बेचने को मजबूर मजबूर हैं।
वहीं नेट क्वालीफाई करने का श्रेय वह अपने माता पिता ओर अपने गुरु डा. राजेंद्र प्रताप मलिक को देते हैं। उन्होंने सरकार से गुजारिश कि है कि गरीब और जरुरतमंद लोगों की पढ़ाई में सहयोग करें जिससे असल हुनर बाहर आ सके और उन्हें लंबे समय तक बेरोजगारी का दंश न झेलना पड़े।

2 thoughts on “नेट क्वालीफाइड है हल्द्वानी का ये चाय वाला

Leave a Reply

Your email address will not be published.