एलईडी झालरेें बनाती महिलाएं

दीपावली पर आपका घर रोशन करने को नैनीताल के महिला समूह तैयार कर रहे स्वदेशी एलईडी झालरें

उत्तराखण्ड ताजा खबर देश/विदेश नैनीताल

कोटाबाग स्थित ग्रोथ सेन्टर में 40 महिलाओं को मिला हुआ है रोजगार
योगेश मिश्रा
कोटाबाग/कालाढंूगी। विकास खण्ड कोटाबाग की महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा बनाई जा रही रंगीन बल्बों की झालरें (एलईडी) इस बार दीपावली के मौके पर लोगों के घरों को रोशन करेंगी। सस्ती एवं टिकाऊ झालरों का उत्पादन महिला कलस्टर लेबल फैडरेशन के तहत कार्यरत 14 महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा किया जा रहा है। जिसके जरिये 40 महिलाओं को रोजगार मिला है। झालरों का निर्माण एलईडी ग्रोथ सेन्टर के जरिये हो रहा हैै।

एलईडी झालरेें बनाती महिलाएं
एलईडी झालरेें बनाती महिलाएं

दो लाख की आय कर चुकी हैं अर्जित
जिलाधिकारी सविन बंसल ने बताया कि इस ग्रोथ सेन्टर का शुभारम्भ विगत जुलाई माह में हुआ था। चार माह के अन्तराल में महिलाओं द्वारा झालर बनाकर एवं उनकी ब्रिकी से लगभग दो लाख की आय अर्जित की है। उन्होेंने कहा कि विद्युत बल्बों की झालर बनाना एक तकनीकी कार्य हैै। खुशी की बात है कि इस तकनीकी को महिलाओं से सीखा और तकनीकी को आत्मसात करते हुये कुशलता पूर्वक झालर निर्माण कर रही हंै। उन्होंने कहा कि जनपद में यह पहली दीपावली होगी जहां इन महिलाओं द्वारा बनाई रंगीन विद्युत झालरें जगमग हांेगी।

dm savin bansal
dm savin bansal

बिक्री बढ़ाने को लगाए जा रहे हैं स्टाल
इसकी ब्रिकी के लिए जनपद मे विभिन्न स्थानों पर स्टाल लगाये जा रहे हैं, ताकि झालरें आम आदमी तक पहुचे तथा महिलाओ उचित बाजार की ब्रिकी के लिए मिल सके। एलईडी बल्ब निर्माण ग्रोेथ सेन्टर का मुख्य उददेश्य महिलाआंे को अपनी घरेलू दिनचर्या कार्यो के साथ ही परिवार की आर्थिकी मजबूत करना है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण मिशन एक महत्वाकांक्षी मिशन है जिसका उददेश्य ग्रामीण परिवारों को संगठित कर उन्हे रोजगार के स्थायी अवसर उपलब्ध कराना हैै। उन्होंने कहा कि मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण स्तर पर गरीब परिवारों की महिलाओं को जोडकर स्वयं सहायता समूह के जरिये कार्य किया जाए।

एलईडी झालरेें बनाती महिलाएं
एलईडी झालरेें बनाती महिलाएं

महिलाएं औसतन कमा रही चार हजार रुपया महीना
इन महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा इसी योजना के अन्तर्गत झालर बनाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होने बताया कि महिलाओं द्वारा अपनी कुशलता से रंगबिरंगे बल्ब, झूमर, लड़ियां तथा कछुआ आदि का निर्माण भी किया जा रहा है। एलईडी ग्रोथ सेन्टर को मशीनों उपकरणों व अन्य सामग्री के लिए 28 लाख की धनराशि निर्गत की गई है। समूहों द्वारा कच्चे माल की उपलब्धता के आधार पर समूह की महिलाओं द्वारा 3 वाट, 7 वाट तथा 9 वाट के एलईडी बल्ब भी तैयार किये जा रहे है। समूह की महिलाओं को तीन से चार हजार रूपये तक की आय हो रही है।
जिलाधिकारी बंसल की यह सार्थक पहल गोपाल दास नीरज की ‘जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना अंधेरा धरा पर कही रह ना जाये’ पंक्तियों को सार्थक करती हैैं।

नोट- संकलन एवं प्रस्तुत कर्ता योगेश मिश्रा सूचना एवं लोक संपर्क विभाग में उपनिदेशक सूचना कुमाऊं मण्डल नैनीताल में तैनात हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.