प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते अधिकारी

स्वरोजगार: ऐपण क्राफ्ट और बैग निर्माण टेलरिंग प्रशिक्षण शुरू

उत्तराखण्ड ताजा खबर नैनीताल योजनाएं स्वरोजगार हथकरघा हस्तशिल्प

25-25 महिलाओं को दिया जाएगा दो माह का प्रशिक्षण
कुमाऊं जनसन्देश डेस्क
हल्द्वानी। जिला उद्योग केन्द्र परिसर में प्रस्तावित नयना देवी ग्रोथ सेंटर में दो माह का ऐपण क्राफ्ट आधारित स्वरोजगारपरक प्रशिक्षण शुरू हो गया है। इसमें 25 महिलाओं को प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। वहीं एमएसएमई परिसर स्थित सभागार में भी ईको फ्रेंडली बैग निर्माण एवं टेलरिंग प्रशिक्षण का शुभारंभ किया गया। इस प्रशिक्षण में भी 25 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा।
बुधवार को जिला उद्योग केन्द्र परिसर में दो माह के ऐपण क्राफ्ट आधारित प्रशिक्षण

प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते अधिकारी
प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते अधिकारी

का शुभारंभ जिला उद्योग केन्द्र के प्रबंधक सुनील कुमार पंत, उत्तराखंड हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास परिषद की डिजाइनर ममता जोशी ने किया। इस अवसर पर प्रबंधक सुनील कुमार पंत ने स्वरोजगार की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए मनोयोग से प्रशिक्षण लेेने को कहा। ऐपण विशेषज्ञ व डिजाइनर ममता जोशी ने ऐपण की बुनियादी जानकारी और सकारात्मक सोच को जरूरी बताया। कहा कि ऐपण उत्पादों की मार्केटिंग की कोई दिक्कत नहीं है। बस उत्पाद बेहतर होना चाहिए। बताया कि लाकडाउन के दौरान भी आनलाइन माध्यम से लाखों के हस्तशिल्प उत्पाद बेचे गए। निर्मला सोशल रिसर्च एंड डवलपमेंट सोसाइटी के निदेशक संजीव भटनागर ने भी प्रशिक्षणार्थियों को प्रेरित किया। ब्लाक मिशन मैनेजर लता सुयाल ने स्वरोजगार को वर्तमान की जरूरत बताया।
इधर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम मंत्रालय (एमएसएमई) के क्षेत्रीय कार्यालय सभागार में दो माह के ईको फ्रेंडली बैग निर्माण एवं टेलरिंग प्रशिक्षण का शुभारंभ प्रभारी निदेशक एससी कांडपाल, सहायक निदेशक पुष्कर सिंह बिष्ट व जिला उद्योग केन्द्र के प्रबंधक सुनील कुमार पंत ने किया। इस अवसर पर प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए प्रभारी निदेशक एससी कांडपाल ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार की तमाम स्वरोजगारपरक योजनाओं बेरोजगार लाभ उठा सकते हैं। कहा कि स्वरोजगार के लिए उद्यमी पंजीकरण कराना आवश्यक है जिससे कि सरकारी योजनाओं का आसानी से लाभ लिया जा सके। सहायक निदेशक पुष्कर सिंह बिष्ट ने कहा कि प्रशिक्षणार्थी लगन से प्रशिक्षण लें और उसके बाद स्वयं का व्यवसाय शुरू कर दें। किसी भी तरह की दिक्कत होने पर विभाग से संपर्क किया जा सकता है। इस मौके पर निर्मला सोशल रिसर्च एंड डवलपमेंट सोसाइटी के निदेशक संजीव भटनागर, एबीडीओ श्याम सिंह नेगी, ब्लाक मिशन मैनेजर लता सुयाल सहित तमाम लोग मौजूद थे।

मौजूद प्रशिक्षणार्थी
मौजूद प्रशिक्षणार्थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.