नशा मुक्ति केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मौजूद लोग

अल्मोड़ा में प्राकृतिक चिकित्सा और आयुर्वेद से छुड़ाया जाएगा नशा

अल्मोड़ा उत्तराखण्ड ताजा खबर समाज

प्रदेश का पहला आवासीय नशा मुक्ति केंद्र का संचालन शुरू
अल्मोड़ा। अल्मोड़ा जनपद में नशे की रोकथाम और नशे के चंगुल में फंस चुके लोगों को इस लत से मुक्ति दिलाने के विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में जनपद में प्रदेश का प्रथम आवासीय नशा मुक्ति केन्द्र का शुक्रवार को हवालबाग के प्रसार प्रशिक्षण केन्द्र में शुभारम्भ हो गया है। 10 बेड के इस आवासीय नशा मुक्ति केन्द्र में एक माह की नशा मुक्ति क्रियायें चलेगी। इसमें शान्तिकंुज हरिद्धार से आये प्रशिक्षक राम सिंह शर्मा व अशोक सिंह द्वारा प्रभावितों को पंचकर्म, प्राकृतिक चिकित्सा, आयुर्वेद सहित अन्य क्रियाकलापों द्वारा नशामुक्ति का प्रशिक्षण दिया जायेगा।

जिला प्रशासन की है सराहनीय पहल: पालिकाध्यक्ष
केन्द्र के शुभारम्भ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा यह अभिनव पहल की गयी है, जो नशे की गिरफ्त में आये लोगों के पुनर्वास के लिये मील का पत्थर साबित होगा। वर्तमान में नशा एक सामाजिक बुराई बन गयी है इससे छुटकारा दिलाने के लिये यह केन्द्र बहुउपयोगी साबित होगा। उन्होंने कहा कि नगर पालिका की ओर से केन्द्र के लिये पूर्ण सहयोग देने की बात कही।

मुख्यधारा में लाए जाएंगे नशा पीड़ितः जिलाधिकारी
इस अवसर पर जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने कहा कि नशे से पीड़ित व नशे के आदि हुये व्यक्ति को समाज की मुख्यधारा में लाने के लिये इस नशामुक्ति केन्द्र को बनाने का निर्णय लिया गया। वर्तमान युवाओं में बढ़ते नशे की प्रवृृत्ति चिन्तनीय है इससे युवा नशे की गिरफ्त में जा रहे है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार के नशे में लिप्त व्यक्ति को इस केन्द्र में विभिन्न क्रिया कलापों के माध्यम से नशे से छुटकारा दिलाने का प्रयास किया जायेगा। जिलाधिकारी ने शान्ति कुंज के द्वारा दिये गये सहयोग के लिये आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि किसी भी नशे से पीड़ित व्यक्ति नोडल अधिकारी से सम्पर्क कर यहां पर सहायता ले सकता है।

नशे की रोकथाम के लिए पहल अच्छी: एसएसपी
इस अवसर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ददनपाल ने कहा कि नशे की प्रवृृत्ति समाज की एक गम्भीर समस्या बन चुका है जो एक दशक में बहुत बढ़ गया है। इस तरह के केन्द्र खुलने से नशे के आदी व्यक्तियों को छुटकारा दिलाया जा सकता है। कार्यक्रम में सचिव विधिक सेवा प्राधिकरण डा0 योगेन्द्र कुमार सागर ने नशे को रोकने के लिये विधिक सेवा द्वारा चलाये जा रहे अभियान की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नशे को रोकने व जन जागरूकता के लिये तहसील स्तर पर टीमों को गठन किया गया है। नोडल अधिकारी डा. अजीत तिवारी ने केन्द्र में दी जाने वाली सुविधाओं व अन्य विषयों पर प्रकाश डाला। इस दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डा. विनीता शाह, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सविता हयंाकी, जिला विकास अधिकारी केक पंत, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, खण्ड विकास अधिकारी पंकज काण्डपाल, परियोजना प्रबन्धक आजीविका कैलाश भट्ट, सहायक परियोजना निदेशक ग्राम्य विकास मनविन्दर कौर, सहायक अभियन्ता नरेन्द्र कुमार, सहायक नोडल अधिकारी नशा मुक्ति केन्द्र अभिलाषा तिवारी, गायत्री परिवार के भीम सिंह अधिकारी, गणेश भट््ट, जवाहर सिंह, मोहन सिंह आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.