dm bansal taking metting

डीएम बंसल की इस पहल से अब बढ़ेगी ग्रामीण उत्पादों की बिक्री

उत्तराखण्ड करियर नैनीताल लाइव/वीडियो

जिलेभर में महिला समूह तैयार कर रहे हैं तमाम जैविक उत्पाद
कुमाऊं जनसन्देश डेस्क
नैनीताल। जिलेभर में विभिन्न स्वयं सहायता समूह और ग्रामीण जैविक उत्पाद तैयार कर रहे हैं। लोगों तक पहुंच बनाने के लिए आकर्षक पैकेजिंग भी की जा रही है। मगर उम्मीद के मुताबिक मांग न मिलने से आय में खास इजाफा नहीं हो रहा है।
ऐसे में नैनीताल के जिलाधिकारी सविन बंसल ने स्वयं सहायता समूहों और जैविक उत्पाद तैयार कर रहे ग्रामीणो की आय बढ़ाने के लिए कार्ययोजना तैयार की है। इस खबर का वीडियो देखें- 

इसके तहत ग्रामीणों के जैविक उत्पादों की बिक्री होटलों के माध्यम से कराई जाएगी। इससे जहां ग्रामीणों की आय बढ़ेगी वहीं दूरदराज से आने वाले लोगों को भी सानीय उत्पादों का स्वाद आसानी से मिल सकेगा। वहीं पसंद आने पर पर्यटक इन उत्पादों को होटलों से खरीद भी सकेंगे।
डीएम सविन बंसल की ओर से की गई इस विशेष पहल का शुभारंभ बीते दिनों मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत कर चुके हैं। वहीं, पर्वतीय उत्पादों की बिक्री कलेक्ट्रेट परिसर में जारी है। अब इन उत्पादों की बिक्री जनपद व आस-पास के होटलों में भी होगी।
इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी सविन बंसल ने सूखाताल में बैठक ली। इस दौरान होटल एसोसिएशन, पर्यटन कारोबारियों व स्वयं सहायता समूहों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक कर जिला मिशन प्रबन्धन इकाई के अन्तर्गत दीन दयाल उपाध्याय अन्त्योदय आजीविका मिशन के तहत संचालित महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित किए जा रहे सामान की जानकारी दी गयी।
बंसल ने बताया कि महिला समूहों द्वारा विभिन्न प्रकार के तमाम आॅर्गेनिक उत्पाद तैयार किए जा रहे हैं, जिनकी उच्च गुणवत्ता है। उन्होंने बताया कि महिलाओं द्वारा मडुवा, मक्का, भट्ट, चना चावल, के आटे के अलावा पहाड़ी लाल चावल, झिंगोरा, राजमा, काला भट्ट, मूठ, सोयाबीन, साबुत चना, गहत, लोबिया, साबुत मसूर के अलावा विभिन्न प्रकार के अचार, बुरांश, लेमन, ओरेंज, आवला स्क्वेश के साथ ही विभिन्न प्रकार के जैम, मडुवा, मक्का के बिस्किट, विभिन्न प्रकार के मसाले, लोकी, खीरा, पेठे की बड़ियाॅ बनायी जा रही हैं।
इसके साथ ही राम बांस व अन्य पर्वतीय उत्पादों से फ्लाॅवर पोट, बास्केट, रेक तथा डस्टबिन भी बनाए जा रहे हैं।
बंसल ने होटल व्यवसायियों से कहा कि पर्यटकों को जो भोजन आदि उनके द्वारा परोसा जा रहा है, उसमें पर्वतीय उत्पादों को शामिल करें। इससे महिला स्वयं सहायता समूहों की बिक्री बढ़ेगी, जिससे महिलाओं व क्षेत्र का आर्थिक विकास होगा, वहीं आने वाले पर्यटक भी पर्वतीय उत्पादों से रुबरू होंगे।
वहीं, स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित पदार्थों की गुणवत्ता एवं स्वाद से प्रभावित होकर जिलाधिकारी बंसल ने 7000 रूपये के तथा मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार ने 5000 रूपये के उत्पाद मौके पर ही खरीदे।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार, सीईओ होटल चेवरोन ग्रुप प्रवीण शर्मा, अल्का होटल के वेद साह, जीएम मनु महारानी नरेश गुप्ता, जीएम नैनी रिट्रीट संजय, परियोजना निदेशक बालकृष्ण, एपीडी संगीता आर्या, डीएसटीओ एलएम जोशी सहित स्वयं सहायता समूहो एवं विभिन्न होटलों के प्रतिनिधि व अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.