वीसी में मौजूद कमिश्नर हयांकी

प्रदेश के आशा वर्करों को शीघ्र मिलेगा स्मार्ट फोन

उत्तराखण्ड ताजा खबर देहरादून नैनीताल

कुमाऊं जनसन्देश डेस्क
नैनीताल। प्रदेशभर के आशा वर्कर को शीघ्र स्मार्टफोन उपलब्ध कराया जाएगा ताकि वे विभागीय कामकाज को तेजी से और आसानी से निपटा सकें। इसके अलावा सरकार सभी आशा कार्यकर्ताओं को कोविड-19 के संक्रमण से बचाव को प्रोटेक्शन किट भी उपलब्ध कराएगी। जिस जिले के सीएमओ आशा वर्कर के भुगतान में ढिलाई करेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। इस तरह के निर्देश मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए किये जा रहे कार्यों की वीसी के माध्यम से समीक्षा करते हुए चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को दिए।
उन्होंने आशा वर्करों के लिए स्मार्ट फोन की उपलब्धता शीघ्रता से सुनिश्चित कराने तथा स्मार्ट फोन के लिए स्वास्थ्य विभाग के आवश्यक साॅफ्टवेयर समय से तैयार करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिए। रावत ने कहा कि बीएसएनएल के नेटवर्क प्रणाली के अपग्रेडेशन के लिए भारत सरकार में भी समन्वय स्थापित किया जा रहा है ताकि राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में दूर संचार सुविधाओं को और अधिक सुगम बनाया जा सके।
रावत ने कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम हेतु मास्क पहनने तथा सामाजिक दूरी के नियमों का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश सभी जिलाधिकारियों व पुलिस विभाग के अधिकारियों को दिए। उन्होंने मास्क न पहनने वालों, सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन न करने वालों के साथ ही होम क्वारंटीन नियमों का अनुपालन न करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि कोविड-19 को लेकर किसी भी प्रकार का निर्णय बहुत सोच समझकर लिया जाता है। प्रदेश में स्थिति धीरे-धीरे सुधर रही है। अन्य बहुत से प्रदेशों से हमारी स्थिति बेहतर है। परंतु अभी भी हमारे प्रयासों में किसी प्रकार की ढ़िलाई नहीं आनी चाहिए। सचिव अमित नेगी ने बताया कि राज्य में कोविड-19 के कुल एक्टिव केस 500 से भी कम रह गए हैं। पिछले सात दिन में कोरोना की वृद्धि दर 0.56 प्रतिशत है जबकि भारत में यह 1.28 प्रतिशत है। उत्तराखण्ड में पाॅजिटीविटी रेट 4.68 प्रतिशत है और देश में औसत पाॅजिटीविटी रेट 6.73 प्रतिशत है। राज्य में कुल पाॅजिटिव मामलों में से 89 प्रतिशत शहरी क्षेत्रों में और 11 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में पाए गए हैं। सेम्पलिंग में भी पहले की तुलना में लगातार बढ़ोतरी हुई है। राज्य की डबलिंग रेट 57.39 दिन है जबकि देश की डबलिंग रेट 23.52 दिन है।
वीसी में मण्डलायुक्त अरविन्द सिंह ह्यांकी ने फ्रंट लाइन वर्करों को प्रोटेक्शन किट प्राथमिकता से उपलब्ध कराने, आशा वर्करों के मानदेय का भुगतान प्राथमिकता से कराने, आशा वर्करों के साथ और अधिक बेहतर कम्यूनिकेशन के लिए उन्हें स्मार्ट मोबाइल फोन सुविधा उपलब्ध कराने, संस्कृति तथा सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग में पंजीकृत कलाकारों का भुगतान कराने, कोविड-19 की संक्रमण की जांच के लिए दो काट्र्रेज वाली ट्रू-नेट मशीन के स्थान पर चार काट्र्रेज वाली ट्रू-नेट मशीनें लगवाने, विभिन्न शहरी निकाय कार्मिकों के वेतन, बीएसएनएल के अपग्रेडेशन सिस्टम आदि के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए महत्वपूर्ण सुझाव दिए।
वीसी में जिलाधिकारी सविन बंसल ने जनपद में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के साथ ही विभिन्न जनपदों से आने वाले सैम्पलों की जांच आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। वीसी में अपर आयुक्त संजय कुमार खेतवाल, संयुक्त निदेशक एटीआई नवनीत पाण्डे आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.