वोगनबेलिया की बेल

अल्मोड़ा की शान वोगनबेलिया की बेल को नया जीवन देने का प्रयास करेगा प्रशासन

अल्मोड़ा उत्तराखण्ड ताजा खबर

जिलाधिकारी भदौरिया ने किया पंत पार्क स्थित स्थान का निरीक्षण
कुमाऊं जनसन्देश डेस्क
अल्मोड़ा। बारिश से टूट चुकी अल्मोड़ा की शान वोगनबेलिया की बेल को नया जीवन देने का प्रयास अल्मोड़ा जिला प्रशासन करेगा। इसके लिए जिला प्रशासन जीबी पन्त पर्यावरण संस्थान और वीपीकेएएस संस्थान की मदद लेगा। यह कहना है अल्मोड़ा के जिलाधिकारी आईएएस नितिन सिंह भदौरिया का।
बता दें कि बुधवार की सुबह नगर मंे माल रोड स्थित गोविन्द बल्लभ पन्त पार्क में नगर की खूबसूरती का प्रतीक देवदार से लिपटी वोगनबेलिया की बेल पेड़़ सहित टूट गयी। यह पेड़ लगभग 300 वर्ष पुराना था जिससे लिपटी वोगनबेलिया की बेल अल्मोडा नगर की शान थी। इसे देखने पर्यटक दूर-दूर से आते थे और यह स्थान सेल्फी लेने का एक मुख्य केन्द्र बन गया था।
जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने स्वयं पंत पार्क स्थित उस स्थान का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि वोगनबेलिया के टूटने से अल्मोड़ा शहर की खूबसूरती को क्षति हुई है। यह स्थान अल्मोड़ा की खूबसूरती को चार चांद लगाये हुये था। जिलाधिकारी ने कहा कि जीबी पन्त पर्यावरण संस्थान और वीपीकेएएस संस्थान की मदद से वोगनबेलिया की बेल को जीवित रखने का प्रयास किया जाएगा, जिससे आने वाले समय मे ंयह बेल अल्मोड़ा की शान बनकर उभरेगा।
गौरतलब है कि आजकल बोगनविलिया में सुंदर फूल खिले थे। यहां से गुजरने वाला हर कोई इसकी सुंदरता को देख मोहित हो जाता था। सैलानी हों या फिर क्षेत्रवासी यहां से आते जाते इसकी फोटो लेते थे या फिर इसके साथ फोटो खिंचाते थे। वहीं, हार्ट आफ सिटी की छत्र छाया राहगीरों को घूप से राहत देती थी। इसके नीचे पार्क में लोग थकान मिटाते थे। यह पंछी और भंवरों का भी प्रिय थी। तभी तो उन्होंने इसमें अपना घरौंदा बनाया था। यहां पर पंछियों और भंवरों का खत्म न होने वाला संगीत दिल और दिमाग को सुकून देता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.