ajay bhatt नैनीताल लोकसभा सीट से अजय भटट ही होंगे भाजपा का चेहरा

नैनीताल लोकसभा सीट से अजय भटट ही होंगे भाजपा का चेहरा

उत्तराखण्ड ताजा खबर देश/विदेश देहरादून नैनीताल राजकाज राजनीति

पूर्व में हरीश रावत को करारी शिकस्त देकर बने थे सांसद
हल्द्वानी। नैनीताल-उधम सिंह नगर लोकसभा सीट से वर्तमान सांसद अजय भटट ही भाजपा का चेहरा होंगे। पार्टी ने उनके नाम का ऐलान कर दिया है। 2019 लोकसभा चुनाव में इस लोकसभा सीट से अजय भट्ट कांग्रेस के कद्दावर नेता पूर्व सीएम हरीश रावत को रिकॉर्ड मतों से मात देकर प्रदेश में सबसे ज्यादा मतों से जीतने वाले सांसद बने थे। 2014 लोकसभा चुनाव में भी यह सीट भाजपा की झोली में गयी थी। तब पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी जीते थे, जिन्होंने कांग्रेस के केसी बाबा को पराजित किया था।

राज्य की पांच लोकसभा सीटों में से सबसे हॉट सीट नैनीताल-उधम सिंह नगर के लिए भाजपा ने मौजूदा सांसद अजय भट्ट को अपना प्रत्याशी बनाया है। मूल रूप से अल्मोड़ा के रहने वाले अजय भट्ट का जन्म 1 मई, 1961 को अल्मोड़ा जिले के रानीखेत में हुआ। उनके पिता का नाम स्व. कमलापति भट्ट और मां का नाम तुलसी देवी भट्ट था। बचपन में ही पिता का साया उठने के कारण उनका जीवन काफी संघर्षपूर्ण रहा। उन्होंने अल्मोड़ा कॉलेज से अपनी एलएलबी की पढ़ाई पूरी की। उनकी पत्नी पुष्पा भट्ट पूर्व में जज रही चुकी हैं। अजय भट्ट का बचपन से आरएसएस से और फिर विद्यार्थी जीवन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ाव रहा। अजय भट्ट 1980 में सक्रिय राजनीति से जुड़े। वे वर्ष 1985 से भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष व भाजपा कार्यसमिति के सदस्य बने। संगठन पर उनकी पकड़ और कार्यशैली से प्रभावित होकर पार्टी ने उन्हें जल्द ही प्रदेश मंत्री और महामंत्री के पद की जिम्मेदारी सौंपी।

राज्य निर्माण आंदोलन में अजय भट्ट की सक्रिय और अहम भूमिका देखने को मिली। डॉ. मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में उत्तरांचल राज्य प्रगति हेतु अजय भट्ट ने अल्मोड़ा में गिरफ्तारी दी तथा अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए दो बार गिरफ्तार भी हुए। वर्ष 1996 में पहली बार रानीखेत से चुनाव जीतकर उत्तर प्रदेश विधान सभा में रानीखेत क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। अजय भट्ट उत्तर प्रदेश विधान सभा में लोक लेखा समिति तथा विधान सभा की विशेषाधिकार समिति के सभापति का दायित्व भी निभा चुके हैं। 9 नवम्बर 2000 को उत्तर प्रदेश से पृथक उत्तराखंड बनने के बाद भट्ट अन्तरिम सरकार में मंत्री बने। 2002 से 2007 तथा 2012 से 2017 तक रानीखेत विधान सभा का पुनः प्रतिनिधित्व कर उत्तराखंड विधान सभा में रानीखेत क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। 18 मई 2012 से 15 मार्च 2017 तक उत्तराखंड विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष रहे। 2015 में अजय भट्ट को नेता प्रतिपक्ष के साथ-साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भी दी गई। अजय भट्ट 2019 में 17वीं लोकसभा में नैनीताल-ऊधमसिंहनगर से पहली बार सांसद चुने गए। इस चुनाव में उन्होंने उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार हरीश रावत को लगभग साढ़े तीन लाख वोटों से हराया तथा प्रदेश में सबसे ज्यादा मतों से जीतने वाले सांसद बने। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में उन्हें केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री बनाया गया।

 

Follow us on WhatsApp Channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *