रंग लाने लगी शिप्रा को बचाने की मुहिम

ताजा खबर

नदी में सीवर डालने पर दर्ज होगी एफआइआर
जगदीश नेगी ने चलाया है क्षेत्र में सफाई अभियान

विनोद पनेरू, भवाली/हल्द्वानी। भवाली शहर के करीब से होकर बहने वाली शिप्रा नदी के अच्छे दिन लौटने लगी है। समाजसेवी जगदीश नेगी के सफाई अभियान और शिकायत के बाद भी पालिका की ओर से कार्रवाई न होने पर इसे नैनीताल की संयुक्त मजिस्ट्रेट वंदना सिंह ने गंभीरता से लिया है। उन्होेंने नदी में सीवर लाइन डालने वालों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के आदेश जारी कर दिये हैं। इससे नदी को गंदगी से निजात मिलने की उम्मीद जगने लगी है।
दरअसल भवाली निवासी जगदीश नेगी जो की शिप्रा कल्याण समिति के अध्यक्ष हंै। पिछले 1.5 साल से भवाली की उत्तर वाहिनी नदी शिप्रा को अपने दम पर साफ करवा रहे हैं। अभी तक नेगी तीन किमी के दायरे में नदी को चार बार साफ कर चुके हैं। नेगी ने अपने दम पर और अपने पास से पैसा लगाकर नदी को साफ करवाया है। नेगी बताते हैं कि मैंने खुद का डेढ़ लाख और लोगांे से सहयोग लेकर कुल तीन लाख रुपया नदी में लगा दिया है। वहीं लोगांे से सहायता जमा करके भवाली पालिका को 75000 के 15 कूड़ेदान भी खरीदकर दिए। बताते हैं कि हमारे काम का भवाली में व्यापक असर पड़ा है। अब लोगांे में भी जागरूकता बड़ी है। पहले जहां शिप्रा नदी को लोग कूड़ेदान की तरह प्रयोग करते थे। अब लोग नदी में बहुत कम कूड़ा कचरे को फेंकते हैं। नेगी 1.5 साल में अब तक शिप्रा नदी से 100 टन से ज्यादा कचरा निकाल चुके हैं। उन्होंने दो बार जिलाधिकारी से कहकर लोगांे को पालिका द्वारा नदी से सीवर हटाने के लिए नोटिस भी भिजवाएं हैं। मगर नदी से सीवर लाइन्स नहीं हट रही हंै। हालांकि इन्हें हटवाने को लेकर वे प्रयासरत हैं। नेगी बताते हैं कि शिप्रा नदी के किनारे अवैध रूप से 100 से ज्यादा सूअर पाले गए हैं। ये दिन भर नदी और आस पास के क्षेत्र को प्रदूषित करते रहते हैं। इसके अलावा क्षेत्र के तमाम रसूखदार लोगों ने सीवर लाइन को सीधे नदी में डाल रखा है। इससे नदी दूषित होने के साथ ही क्षेत्र का पेयजल भी प्रदूषित हो रहा है। मगर पालिका प्रशासन कार्रवाई नहींे कर रहा है। वहीं संयुक्त मजिस्ट्रेट वंदना सिंह ने क्षेत्र की समस्या व दूषित होती नदी व पानी को देखते हुए सख्त रुख अपनाया है। उन्होंने क्षेत्र का निरीक्षण कर पालिका को आदेश दिये हैं कि ऐसे लोगों को चिह्निनत कर उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाएं जिन्होेंने सीवर लाइन सीधे नदी में डाल रखी है। वहीं नेगी बताते हैं कि वे शिप्रा नदी की पूरी सफाई व सीवर लाइन हटवाने तक अभियान व संघर्ष जारी रखेंगे। उन्हें उम्मीद है कि उनका संघर्ष जल्द ही रंग लाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.