सम्बोधित करते वित्त मंत्री प्रकाश पंत

बागवानी की मजबूत डोर युवाओं को खीचेगी गांव की ओर

उत्तराखण्ड ताजा खबर नैनीताल

हाड़ के विकास के लिए तकनीकी को बढ़ावा देना बेहद जरूरी
शहर में रहकर बेशक कमाओ मगर गांव को मत ठुकराओ
हल्द्वानी। शनिवार को पलायन एक चिंतन पर बुद्धिजीवियों के बीच संवाद हुआ। वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने भी ग्राम और न्याय पंचायत स्तर पर बुनियादी ढांचे को मजबूत करने की बात कहकर पलायन के प्रति चिंता जताते हुए सार्थक कदम उठाने की बात कही। वहीं अन्य वक्ताओं ने साफ कहा कि बागवानी, खेती किसानी, किसान आधारित नीति, बीजों की समय पर पर्याप्त उपलब्धता होने पर पलायन पर अंकुश लगेगा। साथ ही खेती और बागवानी में तकनीकी का बेहतर इस्तेमाल को पलायन रोकने में कारगर कदम बताया गया।वहीं उन्होंने युवाओं से कहा कि आप शहर में रहकर बेशक कमाओ मगर गांव को मत ठुकराओ। गांव मेें जितनी भी जमीन है उसमें शौकिया तौर पर ही सही फल, फूल, सब्जी, बागवानी आदि उगाओ। ताकि गांव से नाता बना रहे और आर्थिक तरक्की होने के साथ ही गांव भी खुशहाल बना रहे।
पलायन पर चिंतित और राज्य के प्रति समर्पित भाव रखने वाले कुशल वक्ता प्रमोद शाह के संचालन में आयोजित संवाद कार्यक्रम का शुभारंभ वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने दीप प्रज्जवलित कर किया।

क्या बोले वित्त मंत्री पंत
वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि पलायन वास्तव में एक बड़ी समस्या बन चुका है। मगर पलायन रोकना का एक ही तरीका है ग्राम पंचायत और न्याय पंचायत स्तर पर बुनियादी सुविधाओं को विकसित करना। बेरोजगारी वैश्विक समस्या है। ऐसे में बच्चों का क्षमता व कौशल विकास करना जरूरी है। पानी की कमी या आपूर्ति की व्यवस्था न होना भी आंशिक तौर पर कारण माना जा सकता है। मगर सरकार इस दिशा में तेजी से काम कर रही है। साथ ही युवा नौकरी मांगने वाले नहीं देने वाले बनें इस दिशा में कदम उठा रही है। जल्द ही परिणाम सामने होंगे।

ये माने गए पलायन के मुख्य कारण
– बिगड़ी शिक्षा व्यवस्था
– गांवों में चिकित्सा सुविधा का अभाव
-गांवों में रोजगार के साधन न होना
-पर्यटन नीति धरातल स्तर की न होना
-बड़े अस्पताल, कालेज पहाड़ों में खोलना
-जंगली जानवरों से सुरक्षा के उपाय न होना
-समय पर बीजों की पर्याप्त उपलब्धता न होना
-पहाड़ में परिवार टूटने से बचाना
-लोगों की सोच में बदलाव लाना आदि

कार्यक्रम के दौरान राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, चंद्रशेखर करगेती, अनुपम त्रिवेदी, महेंद्र कुंवर, अखिलेश द्विवेदी, प्रवीण शर्मा, कार्यक्रम के मुख्य संयोजक रतन सिंह असवाल, आनंद रावत, ओपी पांडे, हेम पंत सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.