गुरुदेव टैगोर के दिखाए मार्ग आज भी सम सामायिक हैं और कल भी रहेंगे

रामगढ़ में वित्त मंत्री पंत ने किया रवींद्र सृजनिका का विमोचन
रामगढ़/भीमताल। वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि साहित्यकार, शिक्षक, प्रकृति प्रेमी गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर के दिखाए मार्ग आज भी सम सामायिक हैं और कल भी रहेंगे। रवीदं्र जन्मोत्सव के दूसरे दिन के उदघाटन कार्यक्रम के दौरान वित्त मंत्री पंत ने ये विचार व्यक्त किये। इस दौरान रवींद्र सृजनिका का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए वित्त मंत्री पंत ने बतौर मुख्य अतिथि कहा कि गुरुदेव की सम्पूर्ण संसार में स्वीकारता इसलिए होती है क्योंकि वे जो अंदर से थे वहीं बाहर से भी थे। उन्होंने मानव कल्याण के लिए प्रकृति के पास रहकर समाज की सेवा के लिए चिंतन किया। पंत ने भरोसा दिलाया कि सरकार इस तरह के विभूतियों के यादगार स्थलों को संरक्षित एवं सर्वधन के लिए प्रयास करेगी।

छोलिया की प्रस्तुति देते कलाकार
छोलिया की प्रस्तुति देते कलाकार

उन्होंने कार्यक्रम आयोजन के लिए संयोजक प्रो. अतुल जोशी की सराहना भी की। इस अवसर पर नारायण सिंह मेहरा द्वारा लिखित अंत भले का भला उपन्याय का भी विमोचन किया गया। वहीं काव्य रचना के लिए पंत ने रामकृष्ण कोठारी को सम्मानित भी किया। इस दौरान कार्यक्रम संयोजक प्रो. अतुल जोशी ने शांति निकेतन ट्रस्ट फार हिमालयन की ओर से किये जा रहे प्रयासों की सराहना की। इस दौरान ग्रामीण विकास की रूपरेखा भी प्रस्तुत की गई।
कार्यक्रम का संचालन मोहन चंद्र जोशी व केके पांडेय ने किया। इस दौरान नवीन वर्मा, हेमंत डालाकोटी, सुरेश डालाकोटी, डा. एएस उनियाल, रामकृष्ण कोठारी, शंभुनाथ पांडेय, पूर्व विदेश सचिव शशांक, एसडी तिवारी, देवेंद्र सिंह बिष्ट, डा. दीप चैधरी, डा. महिमा जोशी, डा. उषा पंत आदि मौजूद थे। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रही। छोलिया नृत्य की आकर्षक प्रस्तुति ने सभी का मन मोह लिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते कलाकार
सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते कलाकार

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.