पंत विवि की प्रो. रुचिरा भी हर माह भारतीय सेना को भेजेंगी पांच फीसदी वेतन

विश्वविद्यालय के कुलपति को पत्र भेजकर जताई इच्छा
कुमाऊं जनसंदेश डेस्क
पंतनगर। भारतीय सेना पर हर देशवासी को नाज है। सैनिक सुख-सुविधाओं व घर-परिवार से दूर रहकर हर चुनौती का डटकर मुकाबला करने को हमेशा तत्पर रहते हैं। ऐसे मेें देशवासी भी हर कदम उनके मनोबल को बढ़ाने का पूरा प्रयास करते रहते हैं। ऐसा ही एक सराहनीय प्रयास पंत विवि की एसोसिएट प्रोफेसर डा. रुचिरा तिवारी ने किया है। उन्होेंने भारतीय सेना के खाते में हर माह पांच फीसदी वेतन दान करने का निर्णय लिया है। हाल के दिनों में आतंकी हमलों में करारा जवाब देने के बाद हर भारतीय को भारतीय सेना पर बेहद गर्व की अनुभूति हो रही है। वहीं सैनिकों को खोने का दर्द भी है। हर कोई सेना में जाकर देश सेवा नहीं कर सकता या सैनिकों की मदद का भागीदारी नहीं बन सकता। ऐसे में तमाम लोग सेना को आर्थिक सहयोग देकर अपना अप्रत्यक्ष योगदान सैनिकों को दे रहे हैं।

part of email
part of email

पंत विवि में भंडारक के पद पर तैनात रजनीश पांडे के बाद पंत विवि की एसोसिएट प्रोफेसर डा. रुचिरा तिवारी ने भी सेना को आर्थिक सहयोग करने का मन बना लिया है। प्रो. रुचिरा तिवारी हर माह अपने वेतन से पांच फीसदी अंशदान भरतीय सेना के खाते में करना चाहती हैं। इसके लिए उन्होंने पंत विवि के कुलपति को ई-मेल से अवगत कराते हुए आवश्यक प्रक्रिया कराने को कहा है। ताकि उनके वेतन का पांच फीसद अंश हर माह भारतीय सेना के खाते में चला जाए। वहीं कुमाऊं जनसंदेश न्यूज पोर्टल से वार्ता के दौरान एसोसिएशट प्रोफेसर डा.रुचिरा तिवारी ने बताया कि वे सीधे बार्डर पर जाकर देश सेवा तो नहीं कर सकती, मगर भारतीय सेना को अपने स्तर से आर्थिक तौर पर सहयोग कर सकती हैं। इसके लिए उन्होंने हर माह वेतन से पांच फीसद अंशदान भारतीय सेना को करने का निर्णय लिया है। बताया कि ऐसा निर्णय लेकर उन्हें बेहद खुशी हो रही है। बता दें कि इससे पहले पंत विवि में ही भंडारक के पद पर तैनात रजनीश पांडेय भी हर माह वेतन का एक अंश भारतीय सेना को देने का निर्णय ले चुके हैं। उम्मीद है कि ऐसे ही अन्य लोग भी भरतीय सेना और सैनिकों को आर्थिक सहयोग देने के लिए आगे आते रहेंगे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.